मशरूम की खेती…….

0

रायपुर। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के पादपरोग विभाग की ओर से किसान दिवस के अवसर पर मशरूम दिवस का आयोजन किया गया। इस मौके पर मशरूम कृषि वैज्ञानिकों ने स्टूडेंट्स से अपील की है कि वे मशरूम की तकनीक किसानों तक पहुंचाने के लिए काम करें।अखिल भारतीय समन्वित अनुसंधान परियोजना मशरूम के तहत मशरूम उत्पादन पर आयोजित एक दिवसीय कार्यशाला में जिलों से आए प्रतिभागी कृषकों को मशरूम उत्पादन तकनीक का प्रशिक्षण दिया गया।

कार्यशाला में देश के कई हिस्सों में उगाई जाने वाली मशरूम की प्रजातियों, बटन मशरूम, ऑयस्टर मशरूम, पैडी स्ट्रॉ मशरूम, मिल्की मशरूम समेत अन्य प्रजातियों की उत्पादन प्रौद्योगिकी एवं नवीन अनुसंधानों की जानकारी दी गई।कार्यक्रम के मुख्य अतिथि कृषि महाविद्यालय रायपुर के अधिष्ठाता डॉ. ओपी कश्यप ने प्रतिभागियों से अपील की कि वे मशरूम उत्पादन तकनीक की जानकारी अन्य किसानों पहुचाएं, जिससे कि छत्तीसगढ़ में मशरूम उत्पादन को बढ़ावा मिल सके।कार्यक्रम की अध्यक्षता इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय रायपुर के निदेशक विस्तार डॉ. एमपी ठाकुर ने की। कार्यशाला में मशरूम उत्पादकों की कई समस्याओं का निराकरण भी किया गया। मशरूम उत्पादक किसानों ने मुख्य रूप से इसकी मार्केटिंग में दिक्कत होने की समस्या बताई। विशेषज्ञों द्वारा इस समस्या से निबटने के लिए समूहों का निर्माण कर उनके माध्यम से विपणन करने पर जोर दिया गया।

Leave A Reply